(रिपोर्ट@ईश्वर शुक्ला)                                ऋषिकेश/समाचार भास्कर - गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब परिसर में श्री हेमकुंड साहिब धाम की यात्रा का शुभारंभ करने पहुंचे मुख्यमंत्री और राज्यपाल के कार्यक्रम में उस समय अफरा-तफरी मच गई जब प्रेमचंद अग्रवाल के चर्चित मारपीट वाले मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर सुरेंद्र सिंह नेगी की पत्नी और कुछ महिलाएं गुरुद्वारा परिसर पहुंच गई। आनन-फानन में पुलिस ने महिलाओं को सीएम से मिलने के लिए पहले रोका। जब महिलाओं ने जबरदस्ती की तो पुलिस ने बलपूर्वक महिलाओं को गुरुद्वारा परिसर से बाहर निकालकर जिप्सी में बैठाकर हिरासत में ले लिया। 

      कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल और सुरेंद्र सिंह नेगी के चर्चित मारपीट वाले मामले में आज सुरेंद्र सिंह नेगी की पत्नी दमयंती देवी अपनी कुछ समर्थकों के साथ श्री हेमकुंड गुरुद्वारे में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात करने पहुंची। इस दौरान पुलिस ने दमयंती देवी को मुख्यमंत्री से नहीं मिलने दिया। जब दमयंती देवी ने जबरदस्ती मुख्यमंत्री से मिलने की कोशिश की तो पुलिस ने बलपूर्वक दमयंती देवी को रोका। इस दौरान दमयंती देवी के साथ काफी धक्का मुक्की हुई। शोर-शराबा हुआ तो सारे सुरक्षाकर्मी अलर्ट हुए। बामुश्किल पुलिस ने किसी तरह दमयंती देवी को काबू में किया और जबरदस्ती पुलिस जीप में बैठाकर कोतवाली ले गई। दमयंती देवी ने इस दौरान चीख चीख कर कहा कि वह अपने पति के साथ हुई मारपीट के मामले में न्याय की गुहार लेकर मुख्यमंत्री से मिलने आई, लेकिन पुलिस ने उनके साथ ऐसा व्यवहार किया है जिसके बारे में कभी सोचा भी नहीं। दमयंती देवी ने कहा कि मारपीट वाले मामले में रिपोर्ट दर्ज होने के बावजूद अभी तक प्रेमचंद अग्रवाल के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया है। वह अपने पति को न्याय दिलाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगी। कोतवाल खुशीराम पांडे ने बताया कि सभी महिलाओं को घर भेज दिया गया है।

Share To:

Post A Comment: