(रिपोर्ट@ईश्वर शुक्ला)                                          ऋषिकेश/समाचार भास्कर - डीएफओ धर्म सिंह मीणा की मुश्किलें कम होती दिखाई नहीं दे रही है। हरिद्वार में चार्ज संभालने के बाद वन कर्मचारियों ने डीएफओ पर अभद्रता का आरोप लगाते हुए मोर्चा खोला हुआ है। जिसे लगातार अन्य प्रभाग के वन कर्मचारी अपना समर्थन देकर मजबूत बनाने में लगे हैं। वन कर्मचारियों की मांग है जब तक डीएफओ अभद्रता के मामले में कर्मचारियों से माफी नहीं मांगते तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। 

बुधवार को फॉरेस्ट मिनिस्टीरियल एसोसिएशन शाखा टिहरी के आह्वान पर नरेंद्रनगर वन प्रभाग और भागीरथी वृत्त मुनी की रेती के वन कर्मचारियों ने हरिद्वार वन प्रभाग में डीएफओ धर्म सिंह मीणा के खिलाफ चल रहे आंदोलन को अपना समर्थन दिया। एक दिवसीय कार्य का बहिष्कार करते हुए हर परिस्थिति में अपने साथियों का साथ देने का वादा किया मौके पर कर्मचारियों के समर्थन में नारेबाजी कर प्रदर्शन भी किया। सचिव चंद्र सिंह राणा ने कहा कि कर्मचारी किसी भी अधिकारी की अभद्रता बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है। प्रत्येक कर्मचारी का अपना एक मान सम्मान है। कर्मचारी ड्यूटी पर रहते हुए अपने अधिकारियों को भी सम्मान देने का काम करता है। लेकिन कोई अधिकारी कर्मचारी के साथ अभद्र व्यवहार करेगा तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अन्य कर्मचारियों ने भी साफ चेतावनी दी जब तक वन कर्मचारियों के साथ अभद्र व्यवहार करने वाले डीएफओ के खिलाफ उच्चाधिकारी एक्शन नहीं लेते तब तक फॉरेस्ट मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन अपना विरोध जारी रखेगा। यदि जरूरत पड़ी तो वह उग्र आंदोलन के लिए भी बाध्य होंगे। नारेबाजी कर प्रदर्शन करने वालों में विक्रम दास, बालम नेगी, संदीप सुयाल, पंकज बिष्ट, अनुराग अवस्थी, पूनम रावत, प्रवीण सिंह, अंकित रावत, अमित, संजय कुमार, मुकेश नेगी, अमित कुमार, रविंद्र असवाल, संदीप कुकरेती आदि शामिल रहे।

वही बुधवार को हरिद्वार में दसवे दिन समस्त कर्मचारी प्रभागीय कार्यालय परिसर में चल रहे धरना स्थल पर जमे रहे और उसके उपरांत पूर्व में निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार धरने पर बैठे कर्मचारियों द्वारा बुद्धि शुद्धि यज्ञ कार्यक्रम भी किया गया जिसमें कर्मचारियों द्वारा शासन-प्रशासन की बुद्धि शुद्धि हेतु मंत्र उच्चारण कर आहुतियां भी दी गई ।

Share To:

Post A Comment: