(रिपोर्ट@ईश्वर शुक्ला)                                         ऋषिकेश/समाचार भास्कर - शहर में यातायात नियमों का उल्लंघन करना लोगों के लिए आम बात हो गई है। नियमों को तोड़ना लोगों ने जन्म सिद्ध अधिकार बना लिया है। दुपहिया वाहन पर तीन नहीं बल्कि चार चार लोग सवारी करते हुए देखे जा रहे हैं। ऐसे करके दुपहिया वाहन चालक खुद की और दूसरे की जान खतरे में डाल रहे हैं।



       कोविड-19 की दूसरी लहर खत्म होने के बाद मिल रही छूट का लोग नाजायज फायदा उठा रहे हैं। कोरोना काल के दौरान जहां दुपहिया वाहन पर केवल एक सवारी बैठने का नियम सरकार ने जारी किया था। वही छूट मिलने के बाद दुपहिया वाहन पर दो की जगह तीन और चार चार लोग बैठकर सवारी कर रहे हैं। यातायात नियमों का इस प्रकार उल्लंघन होता देखा जाना शहर में आम हो गया है। ओवरलोडिंग की वजह से कई बार शहर में सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। जिनमें कई लोग अपनी जान भी गवां चुके हैं। इस प्रकार के हादसे सुनने पढ़ने और देखने के बाद भी लोग समझदारी दिखाने को तैयार नहीं है। कई नाबालिग भी यातायात नियमों का उल्लंघन करते हुए देखे जा रहे हैं। जिनके परिजनों को यह तक नहीं पता होता कि आखिरकार उनका लाल शहर में किस प्रकार यातायात नियमों की धज्जियां उड़ा रहा है। हम तस्वीरों के माध्यम से आपको दिखा रहे हैं कि किस प्रकार यातायात नियमों को तोड़कर खुद की और दूसरे की जान को खतरे में डालने की कोशिश गैर जिम्मेदार चालक कर रहे हैं।






Share To:

Post A Comment: