(रिपोर्ट@ईश्वर शुक्ला)
 ऋषिकेश/समाचार भास्कर - उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने राज्य में ऑपरेशन मर्यादा शुरू किया है। जिसके तहत गंगा घाटों के किनारे हुड़दंग करने और किसी भी प्रकार का नशा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई पुलिस के द्वारा की जानी है। यही नहीं पर्यटक स्थलों पर गंदगी फैलाने वालों पर भी ऑपरेशन मर्यादा के तहत पुलिस कार्रवाई करेगी। लेकिन ऋषिकेश शहर और आसपास के ग्रामीण इलाकों में शराब तस्करों पर होने वाली कार्रवाई को भी पुलिस ने ऑपरेशन मर्यादा के साथ जोड़ दिया है। डीजीपी अशोक कुमार ने पुलिस के द्वारा दूसरी कार्रवाई को ऑपरेशन मर्यादा से जोड़ना गलत बताया है।      
      बता दें कि ऋषिकेश कोतवाली पुलिस पिछले कई दिनों से शराब तस्करी के मामले में पकड़े जाने वाले आरोपियों की जानकारी सार्वजनिक करने के लिए जो प्रेस नोट जारी कर रही है। उसमें मिशन मर्यादा के तहत कार्यवाही को अंजाम देना बताया जा रहा है। जबकि शराब तस्कर गंगा घाटों से नही बल्कि ग्रामीण क्षेत्रो से गिरफ्तार किए गए है। शुक्रवार को भी मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में एक युवक को पुलिस ने श्यामपुर गढ़ी तिराहे से गिरफ्तार किया है। इस संबंध में जब मीडिया को प्रेस नोट जारी किया गया तो उसने भी मिशन मर्यादा के तहत आरोपी को गिरफ्तार करने का जिक्र किया गया है। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि क्या पुलिस ऑपरेशन मर्यादा के तहत डीजीपी के सामने अपने नंबर बढ़ाने की कोशिश में लगी है? मामले में जब डीजीपी अशोक कुमार से जानकारी ली गई तो उन्होंने साफ कहा कि ऑपरेशन मर्यादा का नाम केवल गंगा घाटों के किनारे हुड़दंग करने और नशा करने वालों के खिलाफ की गई कार्रवाई से ही जोड़ा जाएगा। यही नहीं पर्यटक स्थलों पर यदि कोई गंदगी करके मर्यादा को तोड़ता है तो उसके खिलाफ भी ऑपरेशन मर्यादा के तहत कार्रवाई होगी। ऋषिकेश में ग्रामीण इलाकों से शराब तस्करों को पकड़ने के लिए ऑपरेशन मर्यादा का नाम जोड़ना गलत है। इस मामले में वह डीआईजी से बात करेंगे।




Share To:

Post A Comment: