ऋषिकेश/समाचार भास्कर -  नगर निगम ऋषिकेश की महापौर अनीता मंमगाई पर एक रिपोर्टर को घंटों बंधक बनाकर मारपीट करने का आरोप लगा है। मामले में पुलिस को तहरीर देकर महापौर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। वहीं मेयर ने लगाए गए आरोपो को राजनीतिक षड्यंत्र बताते हुए सिरे से खारिज कर दिया है। उनका कहना है कि लगाए जा रहे आरोप बेबुनियाद है।


बुधवार को पत्रकार संगठन के लोग कोतवाली ऋषिकेश पहुंचे। जहां रिपोर्टर दुर्गेश मिश्रा ने पुलिस को तहरीर देकर अवगत कराया कि मंगलवार को परीक्षित मेहरा का उन्हें फोन कर एक प्रकाशित खबर के संबंधी वार्तालाप के लिए देहरादून रोड स्थित महापौर के कैंप कार्यालय बुलाया। वह खुद और उनका एक रिपोर्टर रजत प्रताप सिंह महापौर के कार्यालय पहुंचे। जहां उनसे एक खबर प्रकाशन के संबंध में लेकर उनसे कई सवाल पूछे गए। आरोप लगाया कि इसके बाद बात करते-करते अनिता मंमगाई और उनके कुछ पार्षद व अन्य लोगों ने उनसे मारपीट कर दी। आरोप लगाया कि बंधक बनाकर किसी नुकीले हथियार के बल पर पार्षद विजय बडोनी तथा उनके साथियों द्वारा दोनों को डराया धमकाया और हमारे पोर्टल सोशल मीडिया पर हमसे अनाप-शनाप बुलाकर व लिखवा कर अपने पक्ष में बोलते हुए माफी मांगने जैसा कृत्य करवाया गया। साथ ही उन लोगों ने जबरजस्ती डरा धमकाकर पत्रकार दयाशंकर पांडे का नाम भी लेने को कहा। वही इस मामले में पत्रकार संगठन के लोग विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल से भी मिले जहां मेयर के खिलाफ कार्रवाई करने की भी मांग की। 




मेयर ने राजनीतिक षड्यंत्र बताकर लगाए गए आरोपों को सिरे से नकारा ।
नगर निगम के मेयर अनिता मंमगाई ने लगाए गए आरोपों को राजनीतिक षड्यंत्र बताते हुए को सिरे से खारिज किया है। उन्होंने बताया कि सारे आरोप बेबुनियाद हैं। यदि लगाए गए आरोपों के संबंध में कोई भी सबूत है तो वह पेश करें। कहा कि यह राजनीतिक षड्यंत्र के तहत उन्हें बदनाम करने की एक साजिश है। वहीं मेयर ने चेतावनी दी है कि जो ऐसी राजनीति कर रहे हैं यह उनकी बहुत बड़ी भूल है कितने भी षड्यंत्र कर ले षड्यंत्रकारी कभी भी अपने षड्यंत्र में कामयाब नहीं हो सकते इससे पहले भी कई बार सोशल मीडिया के माध्यम से षड्यंत्र करने की कोशिश की परंतु एक बार भी कामयाब नही हो पाए बताया कि हमारे मेयर के टिकट के समय से ही लोग षड्यंत्र रच रहे हैं ।

Share To:

Post A Comment: