ऋषिकेश/समाचार भास्कर - नगर पंचायत स्वर्गाश्रम जोक के अध्यक्ष और सभासदों ने स्वर्गाश्रम ट्रस्ट के खिलाफ दो दिवसीय मोर्चा खोल दिया है। सभासदों का आरोप है कि वर्ष 2018 में ट्रस्ट के साथ हुए समझौते पर पदाधिकारी अमल करने को तैयार नहीं है। 

      दरअसल वर्ष 2018 में स्वर्ग आश्रम जो नगर पंचायत और स्वर्ग आश्रम ट्रस्ट के बीच कुछ बिंदुओं पर आपसी समझौता किया गया था। लेकिन 3 साल बीतने के बाद भी बिंदुओं पर स्वर्गाश्रम ट्रस्ट की ओर से कोई अमल नहीं किया गया है। इससे नाराज होकर नगर पंचायत के अध्यक्ष माधव अग्रवाल और सभासद जितेंद्र धाकड़ और सभासद नवीन राणा ने स्वर्ग आश्रम ट्रस्ट के खिलाफ धरना प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। मौके पर पंचायत अध्यक्ष माधव अग्रवाल ने कहा कि समझौते नामें को लेकर कई बार ट्रस्ट के पदाधिकारियों से वार्ता करने की कोशिश की गई, मगर ट्रस्ट के पदाधिकारी अपने अड़ियल रवैया के चलते बात तक करने को तैयार नहीं है। ऐसे में मजबूर होकर पंचायत के बोर्ड सदस्यों ने ट्रस्ट के खिलाफ आंदोलन का रास्ता चुना है। 


पंचायत अध्यक्ष माधव अग्रवाल ने बताया कि समझौते के तहत निम्न बिंदुओं पर सहमति बनी थी जो इस प्रकार हैं।

नगर पंचायत और स्वर्गाश्रम ट्रस्ट के मध्य चल रहे कूड़ा निस्तारण स्थल का विवाद समाप्त किया जाता है। पंचायत भवन कार्यालय के चारों ओर बाउंड्री वाल के अंदर की भूमि जो पूर्व में स्वर्गाश्रम ट्रस्ट के द्वारा ग्राम सभा को दी गई थी तब से निरंतर उक्त भूमि पर ग्राम सभा तत्पश्चात नगर पंचायत का अध्यापन है। उक्त भूमि नगर पंचायत को हस्तांतरित की जाएगी। प्याऊ के सामने सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कराया जाएगा। स्वर्गाश्रम गद्दी के समीप पार्किंग का गेट स्वर्गाश्रम शीघ्र हटा लेगा एवं पार्किंग निशुल्क की जाएगी। राजकीय इंटर कॉलेज की ओर हेरिटेज पथ का मुंह चौड़ा किया जाएगा। पाठ के मुख्य मार्ग पर स्थित खोला जाएगा। मेन रोड से गांव की ओर जाने वाले रास्ते का मौका मुआयना कर चौड़ा किया जाएगा। प्राचीन गद्दी के बराबर में पीछे की ओर स्थित यात्री विश्राम गृह को शीघ्र यात्रियों की सुविधा प्रारंभ किया जाएगा।

Share To:

Post A Comment: