ऋषिकेश/समाचार भास्कर -  साफ सफाई के मामले में नंबर वन का दर्जा प्राप्त कर चुकी नगर पालिका मुनि की रेती के क्षेत्र में शौचालय की असुविधा है। जिसकी वजह से लोग जंगल में शौचालय जाने को मजबूर है। 


नगर पालिका मुनि की रेती ने लोगों की सुविधाओं के लिए भद्रकाली पुलिस चौकी के बगल में अस्थाई शौचालय का निर्माण किया था। लेकिन कई महीनों से शौचालय में न तो साफ सफाई है। न ही पानी की व्यवस्था है। ऐसे में शौचालय केवल शोपीस बनकर रह गया है। दिलचस्प बात यह है कि शौचालय के ठीक बाहर लोगों का कोरोना टेस्ट करने के लिए मेडिकल टीम भी बैठी हुई है। जो मजबूरी में नाक पर रुमाल रखने को मजबूर है। ऐसे में नंबर वन का दर्जा हासिल कर चुकी नगर पालिका मुनि की रेती की खुले में शौच मुक्त करने के क्षेत्र के दावे की पोल खुलती नजर आ रही है। मामले में जब नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी बद्री प्रसाद भट्ट से जानकारी लेनी चाहिए तो उन्होंने बताया कि जिस संस्था को शौचालय की व्यवस्था रखने की जिम्मेदारी दी गई थी। उसका टेंडर खत्म हो गया है। अब दूसरी एजेंसी को शौचालय के रखरखाव और व्यवस्था की जिम्मेदारी दी गई है। जिसका अनुबंध भी हो गया है। जल्दी ही एजेंसी शौचालय की व्यवस्था को दुरुस्त कर देगी। 

Share To:

Post A Comment: