ऋषिकेश/समाचार भास्कर - कहते हैं प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती बस प्रतिभा को उभारने का मौका मिलना चाहिए। लक्ष्मण झूला थाने में तैनात होमगार्ड  सुमित सिंह गुसाईं बचपन से ही पेंटिंग के दीवाने थे। मगर घर की जिम्मेदारी और होमगार्ड की कड़ी ड्यूटी ने उनके इस हुनर को कभी उभरने नहीं दिया। मगर पुलिस कप्तान के एक निर्देश ने सुमित सिंह गुसाईं के हुनर को उभरने का मौका दे दिया है। 



   इन दिनों सुमित सिंह गुसाईं लक्ष्मण झूला थाने की दीवारों पर पेंट कर पुलिस के चिन्ह बनाकर अपनी कला से लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने में लगे हैं। यही नहीं उनकी पेंटिंग मे इतनी सफाई है कि हर कोई तारीफ करते नहीं थक रहा है। दरअसल पुलिस कप्तान ने थाने की दीवार को रंग रोगन करने के निर्देश दिए थे मामले में थाने में तैनात सुमित सिंह गुसाईं को जब यह बात पता चली तो उसने अपने हुनर का जादू दिखाने की अपील उच्चाधिकारियों से की। इशारा मिला तो राजेश चंद्रा अब थाने की दीवारों पर अपने बचपन की कला को उभारने में लगे हुए हैं। उनकी पेंटिंग में सफाई इतनी है कि हर कोई देख कर दंग रह जा रहा है। आता जाता व्यक्ति भी उनकी इस कलाकारी का दीवाना होता दिख रहा है। हर किसी के मुंह से बस सुमित सिंह गुसाईं के लिए तारीफ के बोल ही निकल रहे हैं। थानाध्यक्ष प्रमोद उनियाल ने भी उनकी इस कलाकारी पर पीठ थपथपाई है। सुमित सिंह गुसाईं का कहना है कि बचपन में उन्हें पेंटिंग का शौक था। मगर नौकरी लगने के बाद उनका यह शौक बंद ताले में हो गया था। मगर आज उन्हें फिर से अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका मिला है जिसके लिए वह काफी खुश हैं।

Share To:

Post A Comment: