ऋषिकेश/समाचार भास्कर - सर्दी का मौसम शुरू हो गया है। ऐसे में हार्ट के मरीजों के लिए परेशानी भी बढ़नी शुरू हो गई है। उत्तराखंड के प्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अनुराग रावत ने हार्ट के मरीजों से परहेज और सतर्कता बरतने की अपील की है। उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण टिप्स भी जारी किए हैं। 


वीडियो देखें 👆

 सर्दी का मौसम हार्ट के मरीजों के लिए बेहद ही खतरनाक होता है। हल्की सी चूक हार्ट के मरीजों की जान भी ले सकती है। ऐसे में मरीजों को बेहद ही सतर्कता बरतने की जरूरत है। हमने इस संबंध में उत्तराखंड के प्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अनुराग रावत से खास बातचीत की। जिसमें उन्होंने मरीजों के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स जारी किए हैं। जो हम हार्ट के मरीजों को बता रहे हैं। 

डॉक्टर अनुराग रावत ने बताया कि सर्दी के मौसम की शुरुआत हो गई है इस बार सर्दी कुछ ज्यादा है सर्दी के मौसम में हार्ट की तकलीफ है बढ़ती हैं इसमें ब्लड प्रेशर नॉर्मस सामान्य से अधिक बढ़ता है तो हार्ड अटैक की संभावना भी बढ़ जाती है हमें इसकी रोकथाम के लिए दो-तीन महीने सर्दियां में कुछ उपाय करना चाहिए ।

सर्दी सुबह 4:00 बजे से लेकर 8:00 बजे तक रहती है इसमें प्लेटेड एग्रीगेशन बढ़ती हैं और प्लॉटिंग बढ़ने की संभावना बढ़ जाती हैं जो हार्ट अटैक का संभावना बढ़ जाता है ।

सुबह के ठंड से ज्यादा बचाव करना चाहिए सर्दी के ऊनी कपड़े पहन कर रखनी चाहिए जो लोग सुबह जल्दी घूमने निकलते हैं वह सूरज निकलने पर ही टहलने जाए 20 से 45 मिनट या मैक्सिमम एक घंटा घूमना चाहिए इससे ज्यादा घूमने से कोई खास फायदा भी नहीं होता है । सर्दी से बचाव करना दूसरा खानपान से बचाव सर्दी में लोग चिकनाहट ज्यादा खाते हैं । सर्दी में चिकनाहट बहुत कम खाना चाहिए हो सके तो लिमिटेड में ही चिकनाहट का सेवन करें ।

सर्दियों में खट्टे फल जैसे संतरा इसका नियमित तौर पर सेवन करना चाहिए इसमें विटामिन सी मिलता है जो हार्ड अटैक से बचने में मदद करता है ।

साथ में एंटीऑकसर्ज रहते हैं । जो सर्दी से बचाव में काफी मदद करते हैं ।

जो लोग सर्दी में चलना फिरना छोड़ देते हैं वह बिल्कुल चलना फिरना ना छोड़ें नियमित तौर से कुछ समय ही पैदल चलें परंतु चलें  ।

नियमित तौर पर ब्लड प्रेशर शुगर बढ़ा है तो इसको डॉक्टर को दिखाना चाहिए ।

खाने में नमक, चावल व चीनी का मात्रा को कम रखें ।

शुगर हार्ड अटैक की संभावना को काफी बढ़ाता है इसलिए शुगर को कंट्रोल में रखना चाहिए ।

अगर छाती में दर्द महसूस होता है और वह दर्द 20 मिनट से ऊपर है छाती में भारीपन व पसीना आना व सांस फूलता है तो आपको तुरंत अस्पताल में जाकर डॉक्टर को दिखाना चाहिए इसमें आपको पता चल जाएगा कि आपको हार्ट की तकलीफ है कि नहीं ।

डॉक्टर अनुराग ने बताया जो भी हम हार्ट का इलाज करते हैं वह है 3 से 6 घंटे में बहुत महत्वपूर्ण होते हैं अगर इस समय आप अस्पताल पहुंच गए और समय पर जो भी दवाई या एनजीओप्लास्टि है समय पर करवा लेंगे तो हार्ट से हो होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता हैं । कहा की शर्दी के अगले दो-तीन महीने इंपॉर्टेंट है । अपने ब्लड प्रेशर शुगर और हार्ट के परेशानीयो में नियमित डॉक्टर के संपर्क में रहें ।

बताया अगर आप को चलते हुए छाती में दर्द है आपको हार्ट की बेसिक जाचें जैसे इको टीएफटी कोलेस्ट्रॉल की जांच नियमित तौर पर करवाना चाहिए ।




Share To:

Post A Comment: