ऋषिकेश/समाचार भास्कर - कुंभ क्षेत्र में एक बार फिर शराब के ठेके का विरोध होना शुरू हो गया है। इस बार यह विरोध किसी राजनीतिक और सामाजिक दल ने नहीं बल्कि संत समाज ने उठाई है। मुनी की रेती क्षेत्र में एक संत शराब के ठेके को बंद करने की मांग को लेकर तीन दिवसीय धरने पर बैठ गया है। 



         दरअसल करीब 2 साल पहले मुनिकीरेती स्थित खारा स्त्रोत में शराब का ठेका खोला गया था। उस समय भी ठेके का विरोध सामाजिक राजनीतिक और धार्मिक संगठनों ने किया था। मगर सरकार की मनमानी के आगे किसी की एक न चली। नतीजा खारा स्रोत में शराब का ठेका बिंदास रूप से चल रहा है। मगर कुंभ मेला नजदीक आने पर संत समाज ने शराब के ठेके का विरोध करना शुरू कर दिया है। मुनी की रेती में पीडब्ल्यूडी तिराहे पर संत कमलेशानंद गिरि तीन दिवसीय धरने पर बैठ गए है। संत का आरोप है कि कुंभ क्षेत्र में हजारों नहीं बल्कि लाखों श्रद्धालु धार्मिक नगरी का भ्रमण करने पहुंचेंगे। ऐसे में उनके सामने शराब का ठेका राज्य की छवि को धूमिल करेगा। संत ने बताया कि सरकार ने नियम विरुद्ध क्षेत्र में शराब का ठेका खोला है। जिसे जल्द से जल्द बंद कर देना चाहिए। बकौल स्वामी कमलेशनंद आज मैं अकेला शराब के ठेके के विरोध में धरना दे रहा हूं। यदि सरकार ने मांग पर ध्यान नहीं दिया तो पूरा संत समाज इस शराब के ठेके के विरोध में धरने पर बैठ जाएगा। जिससे कुंभ मेले क्षेत्र में आने वाले तीर्थ यात्रियों को उसका क्या मैसेज जाएगा। यह सरकार खुद समझ सकती है। संत ने जल्द से जल्द शराब का ठेका बंद करने की मांग सरकार से की है। संत के समर्थन में मनीष कुकरेती और आशीष गॉड भी धरने पर बैठ गए हैं।






Share To:

Post A Comment: