ऋषिकेश/समाचार भास्कर - मुनिकीरेती क्षेत्र में शीशमझाड़ी के अंदर नियम विरुद्ध बन रही स्वामीनारायण आश्रम की बहूमंजिल इमारत का निर्माण कार्य एमडीडीए की रोक के बावजूद बदस्तूर जारी है। स्थानीय लोगों ने मामले में अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल खड़े करते हुए मिलीभगत का आरोप लगाया है। 

दरअसल कुछ महीने पहले शीशम झाड़ी क्षेत्र में स्वामीनारायण आश्रम ने एक बहूमंजिल इमारत बनानी की। मामले में स्थानीय लोगों ने डीएम को जानकारी देकर बहु मंजिल इमारत पर रोक लगाने की मांग की। तर्क दिया कि इमारत को बनाने के लिए एमडीडीए से नक्शा पास नहीं कराया गया है। जबकि यह इमारत गंगा के 200 मीटर के दायरे में भी आती है। शिकायत के बावजूद इमारत 6 मंजिल बनकर खड़ी हो गई। मगर जिम्मेदार कार्रवाई करते हुए नजर नहीं आए। मामला मीडिया में आया है तो अधिकारी कार्रवाई करने का आश्वासन दे रहे है। इस संबंध में स्थानीय लोगों ने अधिकारियों पर मिलीभगत कर लिफाफे लेने का आरोप तक लगा दिया है। 



क्षेत्र निवासी अशोक कुमार ने बताया कि छात्रावास के नाम पर यह बिल्डिंग तैयार की जा रही है। जबकि इसके अंदर छात्रावास के निर्माण जैसा कुछ दिखाई नहीं दे रहा। उन्होंने दावा किया कि यदि यह बिल्डिंग छात्रावास बनती है तो वह अपना घर निर्माणकर्ता को दान दे देंगे। आरोप लगाया कि अधिकारी मिलीभगत कर बिल्डिंग को निर्माण करवा रहे हैं। 



एमडीडीए के सचिव सुंदरलाल सेमवाल ने बताया कि स्वामीनारायण आश्रम के संचालक को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इस बीच निर्माण कार्य भी रोक दिया गया था। अगर निर्माण कार्य अब भी चल रहा है तो टीम को मौके पर भेजा जाएगा। 

 


जनपद टिहरी की डीएम ईवा आशीष श्रीवास्तव का कहना है कि मामले में एसडीएम और अधीनस्थ अधिकारियों को मौके का निरीक्षण कर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। जल्दी ही मामले में कार्रवाई की जाएगी।




Share To:

Post A Comment: