ऋषिकेश/कोटद्वार/समाचार भास्कर - कोटद्वार के सब इंस्पेक्टर दीपक तिवारी भी कोरोना योद्धा है। खाकी पहनकर उन्हें केवल अपना फर्ज और ड्यूटी दिखाई देती है। वैश्विक महामारी के इस काल में उन्होंने अभी तक एक भी छुट्टी नहीं ली है। करीब तीन महीने से उन्होंने अपने छोटे-छोटे बच्चों को देखा तक नहीं है। ऐसे योद्धा को हमारी टीम का सलाम।
        कोरोना की जंग में बात की जाए यदि योद्धाओं की तो उनमें कांस्टेबल से लेकर सीनियर अधिकारी तक शामिल है। ऐसे ही एक योद्धा हैं कोटद्वार कोतवाली में तैनात सब इंस्पेक्टर दीपक तिवारी। गढ़वाल जाने के लिए कोटद्वार प्रवेश द्वार है इसलिए ज्यादातर दीपक तिवारी को कोड़िया गेट पर प्रवेश करने वाले वाहनों की चेकिंग की जिम्मेदारी दी गई है जिसे वह लगातार करने में मस्त दिखाई दे रहे हैं इसी के साथ शहर में कहीं भी कोरोना संक्रमण का मामला होता है तो दीपक ऐसे स्थानों पर भी सक्रिय रूप से अपनी भूमिका निभा रहे हैं। बकौल दीपक तिवारी मैं जब खाकी पहन लेता हूं तो यह नहीं पता चलता कि कब दिन से रात हो गई। थकान भी महसूस नहीं होती। बस दिल और दिमाग में एक ही चीज चलती है कि भगवान जल्दी से कोरोना के कहर से मुक्ति दिला दो। तीन महीने से छुट्टी नहीं ली। बच्चे हरिद्वार में है। उनको देखा भी नहीं है। दिल बहलाने के लिए वीडियो कॉलिंग के जरिए बस बात कर लेता हूं। परिवार के लोग नाराज होते हैं मगर क्या करूं देश सेवा से पीछे नहीं हट सकता। ऐसे योद्धाओं की वजह से एक दिन हमारा देश कोरोना की जंग को जरूर जीतेगा। हमारी टीम की ओर से दीपक तिवारी को सलाम।
Share To:

Post A Comment: