ऋषिकेश/समाचार भास्कर - निर्मल आश्रम लगातार इन दिनों सैकड़ों बेघरों को प्रतिदिन भोजन करा रहा है। मगर कई बेघर घर ले जाने के बहाने भोजन को इधर उधर से फेंक रहे हैं। ऐसी जानकारी सामने आने के बाद निर्मल आश्रम ने मुनी की रेती में भोजन कराने के लिए व्यवस्था में बदलाव कर दिया है। अब पंगत बैठाकर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए बेघरों को भोजन खिलाया जाएगा। 


  3 सप्ताह से निर्मल आश्रम लगातार सैकड़ों बेघरों को प्रतिदिन भोजन कराकर उनकी भूख शांत करने में लगा है। मगर इन दिनों में भोजन का एक दाना भी किसी की भूख को आसानी से शांत कर सकता है। जिसे बेघर अपने घर ले जाने के नाम पर व्यर्थ कर रहे हैं। ऐसी जानकारी जब आश्रम के संचालकों को पता चली तो उन्होंने भोजन कराने की व्यवस्था में बदलाव किया है। संचालक अब बेघरों को पंगत में सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए भोजन करा रहे हैं। आज भी इसी प्रकार की तस्वीर भोजन स्थल पर देखने को मिली। इस व्यवस्था कि जहां सामाजिक लोगों ने सराहना की है वही बेघरों को भी तसल्ली से खाना खाने का मौका मिला है। आश्रम के बाबा जोध सिंह महाराज ने बताया कि भूखों का पेट भरना ही सबसे बड़ी सेवा है। इसलिए आश्रम में हमेशा लंगर चलता है। इन दिनों लॉक डाउन की वजह से कई बेघर भूखे हैं। उनके लिए भी आश्रम की ओर से व्यवस्था की जा रही है। मगर अनाज व्यर्थ ना हो इसके प्रयास भी आश्रम के द्वारा लगातार किए जा रहे हैं। बताया पंगत में बैठकर भोजन कराने की व्यवस्था की गई है। जिससे बेघर तसल्ली से अपना पेट भर सके। बताया लॉक डाउन जब तक चलेगा तब तक यह व्यवस्था चलती रहेगी।
Share To:

Post A Comment: