ऋषिकेश/ समाचार भास्कर - गंगा नदी राफ्टिंग रोटेशन समिति उत्तराखंड ने पिछले चार सालों से बंद पड़े बीच कैंपों को खोलने की मांग सरकार से की है।
         आज समिति के पदाधिकारियों ने एक बैठक की जिसमें लगातार कम हो रहे रोजगार के संबंध में विचार विमर्श किया गया। बैठक में समिति के अध्यक्ष दिनेश भट्ट ने कहा कि राफ्टिंग के साथ बीच कैंपो में पर्यटक रुकने के लिए आते हैं। मगर एनजीटी के आदेश के बाद बीच कैंप लगने बंद हो गए हैं। जिसकी वजह से 60% पर्यटक शहर में आना कम हो गया है। पर्यटक अब दूसरे राज्यों की ओर रुख कर रहे हैं। यदि बीच कैंप खोलने की प्रक्रिया को सरकार ने शुरू नहीं किया तो राफ्टिंग व्यवसायियों की कमर टूट जाएगी। ऐसे में लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा होगा। बैठक में सदस्यों ने सरकार से रोजगार बचाने के लिए शीघ्र बीच कैंपों को लगाने की अनुमति देने की मांग की है। बैठक में  विकास भण्डारी हुकुम रावत रामपाल भण्डारी मदन बड़ौनी हेमंत चौहान मनोज उनियाल प्रदीप काकरान राफ्टिंग धनवीर भण्डारी अनुराग रावत आदि मौजूद थे ।
Share To:

Post A Comment: