ऋषिकेश/ समाचार भास्कर - ऋषिकेश में लगातार हो रही एमडीडीए की कार्रवाई से परेशान होकर बिल्डरों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की। इस दौरान एक ज्ञापन सौंपकर समस्याओं का समाधान करने की मांग की है।
       ज्ञापन में बिल्डरों ने एमडीडीए पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है। बताया कि ऋषिकेश की भौगोलिक परिस्थितियां पहाड़ों की तरह है। यहां की सड़कें और गलियां छोटी-छोटी हैं। जबकि एमडीडीए मैदानी क्षेत्रों की तरह अपनी मनमानी ऋषिकेश में चला रहा है। जिसकी वजह से बिल्डरों का उत्पीड़न हो रहा है। बिल्डरों ने मुख्यमंत्री से ऋषिकेश को भी पहाड़ की तर्ज पर एमडीडीए की गाइड लाइन में लाने की मांग की है। इसी के साथ विवादित खसरा के मामले में भी हस्तक्षेप करने की बात कही है। अवगत कराया कि विवादित खसरों में जमीन की खरीद-फरोख्त में परेशानी हो रही है। जिसकी वजह से लोग अपने निर्माण कार्य जमीन खरीदने के बाद भी नहीं कर पा रहे हैं। इसके अलावा ऋषिकेश का मास्टर प्लान भी खत्म हो गया है। वर्तमान में जो मास्टर प्लान सरकार की ओर से जनता की टेबल पर रखा गया है। उसमें कई खामियां है। उन खामियों को ठीक करने के लिए जनता से सुझाव लिए जाए। जिससे समस्याओं का समाधान आसानी से हो सके। बिल्डरों ने शीघ्र कार्रवाई की मांग के मंत्री से की है। ज्ञापन सौंपने वालों में दिनेश कोठारी दीपक चुग मानव जोहर प्रदीप दुबे विशाल कक्कड़ निशांत मलिक संजय व्यास आदि शामिल रहे।
Share To:

Post A Comment: