ऋषिकेश/समाचार भास्कर - नेत्रहीन लोगों के लिए वरदान साबित हो रही निर्मल आश्रम आई इंस्टिट्यूट संस्थान के द्वारा लगातार नेत्रदान जन जागरूकता अभियान से लोगों में एक अलग सी अलख जाग रही है कि क्यों ना हम नेत्रदान अभियान से जुड़कर कर उन लोगों को नई जीवन ज्योति दी जाए जो नेत्रहीन हो चुके हैं ।
नेत्रदान अभियान से जागरूक होकर निरंकारी आश्रम लक्ष्मणझूला रोड ऋषिकेश निवासी अनिल चौहान की माता का मंगलवार को स्वर्गवास हो गया था अनिल चौहान ने निर्मल आश्रम आई इंस्टिट्यूट के प्रबंधक आत्म प्रकाश कोच्चर बाऊजी से संपर्क साध कर अपनी माता के आंखों को दान करने की इच्छा जाहिर की जिस पर संस्थान की टीम में डॉ. अमृता एव डॉ. श्रीमकरेंदु निवासी के घर पहुंच कर उनकी स्वर्गीय माता अशर्फी देवी चौहान की दोनों कार्निया सुरक्षित प्राप्त कर ली टीम ने बताया कि दोनों कार्निया का जांच कर पुनः किसी दो नेत्रहीन लोगों के जीवन की ज्योति प्रदान की जाएगी। वहीं संस्थान के लोगों ने स्वर्गीय अशर्फी देवी चौहान के पति राजेंद्र सिंह चौहान पुत्र सुनील चौहान व अनिल चौहान को इस पुनीत कार्य नेत्रदान महादान अभियान से जुड़ने पर धन्यवाद वह बधाई दी और कहा कि आगे भी इस अभियान से जुड़कर नेत्रहीनों की सेवा करें ।



Share To:

Post A Comment: