ऋषिकेश/समाचार भास्कर - चंद्रभागा नदी किनारे प्रशासन के द्वारा तोड़ी गई झोपड़ियों के मामले में कांग्रेस ने प्रशासन की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं। आरोप लगाया कि झोपड़ियां तोड़ते समय मानवाधिकार के नियमों की अनदेखी की गई है। इस मामले में उन्होंने जिलाधिकारी से शिकायत की है।
        मंगलवार को कांग्रेस नेता जयेंद्र रमोला के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने एसडीएम प्रेमलाल से मुलाकात की। इस दौरान जिलाधिकारी के नाम एक ज्ञापन सौंपते हुए अवगत कराया कि मौखिक आदेश पर चंद्रभागा नदी किनारे बसी झुग्गियों को तोड़ दिया गया है। इस दौरान मानवाधिकार के नियमों की अनदेखी की गई। इस मामले में जब उन्होंने मौके पर मौजूद अधिकारियों को अवगत कराना चाहा तो उन्हें पुलिस बल से दूर करा दिया गया। बताया कि झोपड़िया टूटने से सैकड़ों लोग बेघर हो गए हैं। पिछली बार भी अतिक्रमण हटाने के दौरान बेघर हुई एक वृद्ध की बीमारी की हालत में मौत हो चुकी है। इस समय भी सैकड़ों लोग सर्दी के दिनों में खुले आसमान के नीचे जीवन जीने को मजबूर हो गए हैं। जयेंद्र रमोला ने बताया कि इस संबंध में एक पत्र मानवाधिकार को भी भेजा जा रहा है। उन्होंने जिलाधिकारी से इस संबंध में निष्पक्ष जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है। ज्ञापन सौंपने वालों में शिव मोहन मिश्र देवेंद्र प्रजापति जगत ने कि राकेश सिंह भगवान सिंह दिनेश चंद राम कुमार हरिराम वर्मा ओमप्रकाश ममता ऋषिराज आदि मौजूद रहे।
Share To:

Post A Comment: