ऋषिकेश/समाचार भास्कर - उत्तराखंड में ऑपरेशन शिनाख्त के बाद शुरू हुए ऑपरेशन स्माइल की सफलता को देखते हुए एक बार फिर दोनों ऑपरेशन एक साथ उत्तराखंड में चलाए जाएंगे जिसके तहत वर्ष 2000 से अब तक लापता हुए बच्चों बुजुर्गों और लोगों की तलाश की जाएगी इस दौरान यदि किसी के लापता होने के मामले में अपराधिक गतिविधियां सामने आती है तो उसके खिलाफ मुकदमे भी दर्ज किए जाएंगे।
        यह जानकारी देते हुए पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने बताया कि 2 महीने के लिए फिर से ऑपरेशन स्माइल और ऑपरेशन शिनाख्त दोबारा से शुरू किया जा रहा है। यह ऑपरेशन देहरादून नैनीताल हरिद्वार उधमसिंह नगर जनपद में चलाया जाएगा। जिसके तहत पांच-पांच तलाशी टीम का गठन किया गया है। जिसमें एक सब इंस्पेक्टर और चार आरक्षी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। बरामद बच्चों और महिलाओं से पूछताछ के बाद यदि किसी भी प्रकार की अपराधिक वारदात का मामला सामने आता है तो तत्काल मुकदमा भी संबंधित के खिलाफ दर्ज किया जाएगा। देहरादून हरिद्वार नैनीताल और उधम सिंह नगर में अपर पुलिस अधीक्षक और पुलिस उपाधीक्षक को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। मुख्यालय स्तर पर दोनो ऑपरेशन की निगरानी की जाएगी। इस अभियान में समाज कल्याण महिला एवं बाल विकास विभाग चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सहित अन्य विभागों की मदद भी ली जाएगी। आपको बता दें कि ऑपरेशन स्माइल अभियान के तहत वर्ष 2015 से वर्ष 2018 तक 868 और अन्य प्रदेशों से 693 गुमशुदा बच्चों को बरामद किया गया। इसी के साथ वर्ष 2018 से अब तक 68 अज्ञात शवों की शिनाख्त की गई। दोनों ऑपरेशन की सफलता के बाद दोबारा से ऑपरेशन चलाने का यह निर्णय लिया गया है।
Share To:

Post A Comment: