ऋषिकेश/समाचार भास्कर - निर्मल आश्रम अस्पताल और आई इंस्टिट्यूट के द्वारा चलाए जा रहे जागरूकता अभियान से प्रेरित होकर नजीबाबाद निवासी आशा शर्मा के निधन के बाद परिजनों ने उनकी आंखें दान कर दी है। परिजनों के इस कदम से दो नेत्रहीन व्यक्ति अब इस दुनिया के खूबसूरत नजारे आसानी से देख सकेंगे। 

     निर्मल आई इंस्टिट्यूट के प्रबंधक स्वामी आत्म प्रकाश महाराज ने बताया कि संस्थान की ओर से लगातार नेत्रदान करने के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इसी कड़ी में मंगलवार की सुबह नजीबाबाद निवासी 55 वर्षीय आशा शर्मा का निधन हो गया। जिसके बाद उनके परिजनों ने इंस्टिट्यूट को आंखें दान करने के प्रति आस्था जताते हुए नजीबाबाद बुला लिया। तत्काल डॉक्टरों की टीम नजीबाबाद पहुंची और जांच के बाद मृतक की आंखों से कर्निया सुरक्षित प्राप्त कर ली। बताया कि मृतक के बेटे योगेंद्र शर्मा और स्थानीय निवासी मुकेश सहगल के सहयोग से नेत्रदान सफल तरीके से हो पाया है। इसके लिए परिजन धन्यवाद के पात्र हैं बताया दो व्यक्ति अब स्वर्गीय आशा शर्मा की आंखों से इस दुनिया के खूबसूरत नजारे आसानी से देख सकेंगे उन्होंने लोगों से नेत्रदान करने के प्रति जागरूक होने की अपील की है।

Share To:

Post A Comment: