ऋषिकेश/समाचार भास्कर - शहर में खुर्द बुर्द होती धर्मशाला को बचाने के लिए मेयर ने बीड़ा अपने कंधों पर उठा लिया है। इस मामले में नगर आयुक्त के नेतृत्व में एक टीम का गठन मेयर ने किया है। टीम नगर निगम के गठन से पहले से लेकर अब तक शहर की धर्मशालाओं का अस्तित्व खंगालेंगी। जिसके बाद धर्मशालाओं के अस्तित्व को बचाने की दिशा में कार्य किए जाएंगे।
       गुरुवार को नगर निगम स्थित अपने कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए मेयर अनीता ममगाईं ने कहा कि शहर में धर्मशालाओं के अस्तित्व पर मंडराते खतरे से निपटने के लिए उन्होंने कमर कस ली है। धर्मशाला हमारे शहर की शान है। बाहर से आने वाला तीर्थयात्री धर्मशाला को ही अपने रहने के लिए प्राथमिकता देता है। इसलिए उन्हें सुरक्षित करना बेहद जरूरी हो गया है। इस मामले में नगर आयुक्त चतर सिंह चौहान के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया है। जो नगर निगम गठन से पहले से लेकर अब तक धर्मशाला की गिनती करेगी। जानकारी हासिल करेगी की कितनी धर्मशालाओं का अस्तित्व खत्म करने की कोशिश लोग करने में लगे हैं। जिसके बाद उनका अस्तित्व बचाने की दिशा में कार्य किए जाएंगे। इस दौरान सहायक नगर आयुक्त उत्तम सिंह नेगी कर अधीक्षक निशात अंसारी आदि उपस्थित रहे।

Share To:

Post A Comment: