ऋषिकेश/समाचार भास्कर - बंगाल में मरीज की मौत के बाद डॉक्टर की पिटाई होने से स्थानीय डॉक्टर भी भड़क गए है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के आह्वान पर डॉक्टरों ने एसडीएम कार्यालय पर प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया है। डॉक्टरों ने 24 घंटे के लिए सामूहिक कार्य बहिष्कार की घोषणा भी की है। उन्होंने सरकार से इस प्रकार के मामलों की पुनरावृत्ति रोकने के लिए कड़े कानून बनाने की मांग की है।  दूसरी ओर एम्स के डॉक्टर भी इस घटना के विरोध में हड़ताल पर हैं। जिसकी वजह से मरीज अपना इलाज कराने को परेशान हो रहे हैं।
       बंगाल की घटना के बाद से देशभर के साथ ऋषिकेश के डॉक्टर भी अपना विरोध जताने में लगे हुए हैं। इसी कड़ी में आज डॉक्टरों ने राजकीय चिकित्सालय से एसडीम कार्यालय तक मौन जुलूस निकाला। जिसके बाद प्रदर्शन कर नारेबाजी की गई। एसडीएम के माध्यम से सीएम को एक ज्ञापन भी भेजा गया। जिसमें डॉक्टरों की सुरक्षा को लेकर कड़े कानून बनाने की मांग की गई है। स्थानीय डॉक्टर आरके भारद्वाज ने कहा कि डॉक्टरों पर हमला होना निंदनीय है। कोई भी डॉक्टर अपने मरीज की जान को बचाने में कमी नहीं करता है। लेकिन किसी कारण से मरीज की मौत के बाद परिजन डॉक्टरों पर हमला कर रहे हैं। जिसकी जितनी निंदा की जाए वह कम है। इस दौरान डॉक्टर एनके श्रीवास्तव, डॉक्टर राजे नेगी सहित दर्जनों डॉक्टर उपस्थित रहे। वहीं दूसरी ओर एम्स के डॉक्टर आज भी हड़ताल पर रहे। शहर में डॉक्टरों के हड़ताल रहने से मरीज परेशान हो रहे हैं।

Share To:

Post A Comment: