ऋषिकेश/समाचार भास्कर - सप्ताह भर पूर्व तपोवन में क्रियायोग आश्रम के संचालक समर्थकों तथा खोखा  दुकान संचालक रविंद्र भंडारी के बीच हुए मारपीट में आश्रम के संचालक स्वामी सर्वगुणानंद गिरी उर्फ सूरज शिष्य शंकरानंद गिरी निवासी बरगद , उड़ीसा तथा विजय बाबा शिष्य शंकरानंद गिरी निवासी अंबाला हरियाणा हाल निवासी क्रियायोग आश्रम को पुलिस ने गिरफ्तार कर मा. न्यायालय नरेंद्रनगर में पेश किया ।

 पुलिस ने बताया कि यह दोनों बाबा मारपीट के मुख्य आरोपी थे बताया कि जांच के दौरान प्राप्त वीडियो फुटेज में सामने आया कि 19 तारीख की रात को तहसीलदार नरेंद्रनगर के निर्देश पर रात 10:00 बजे एनएच के एई मृत्युंजय शर्मा क्रिया योग आश्रम के बाहर तपोवन निवासी रविंद्र भंडारी के खोखे को हटाने के एनएच के एई जब दोनों पक्षों में तनाव को महसूस कर उसने थाने पहुंचे तभी आश्रम के संचालक और उनके अन्य समर्थकों द्वारा खोखे को स्वयं हटाना शुरू कर दिया थोड़ी देर बाद खोखा स्वामी रविंद्र भंडारी वहां पहुंचे जो खोखा हटाते एक कर्मचारी से भिड़ गए । जिस पर मौके पर मौजूद उक्त आरोपियों और उनके समर्थकों द्वारा रविंद्र भंडारी की जमकर पिटाई कर दी गई इस दौरान पुलिस के हस्तक्षेप से दोनों पक्ष शांत हुए बताया कि रविंद्र भंडारी की पत्नी श्वेता भंडारी की ओर से थाना मुनि की रेती में मुकदमा पंजीकृत किया गया था जिस पर पुलिस द्वारा दोनों आरोपियों को धारा 147 बलवा, 323 मारपीट, 324 धारदार हथियार से चोट पहुचाना ,504 गाली गलौज करने ,506 जान से मारने की धमकी देने के तहत गिरफ्तार किया गया इस मामले में आश्रम पक्ष की ओर से भी रिपोर्ट दर्ज कराई गई है जिसकी जांच की जा रही है ।  पुलिस ने बताया कि विवेचना में पुष्टि हुई कि आश्रम के लोग नेशनल हाईवे द्वारा की जा रही कार्रवाई को अपने हाथ में ना लेते तो मौके पर मारपीट की घटना नहीं होती ।

Share To:

Post A Comment: