ऋषिकेश/समाचार भास्कर - तपोवन में दो पक्षों के बीच हुए झगड़े के मामले में ग्रामीण एकत्रित हो गए हैं। ग्रामीणों ने एक आश्रम संचालक पर दबंगई का आरोप लगाते हुए पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।
    आपको बता दें कि बीते दिवस तपोवन स्थित एक आश्रम के कुछ लोगों ने स्थानीय लोगों के साथ मारपीट कर दी थी। जिसके बाद से ग्रामीण गुस्से में है। उन्होंने तपोवन में ग्राम प्रधान सुरेश उनियाल के नेतृत्व में एक बैठक का आयोजन किया। जिसमें मुनि की रेती थाने के इंस्पेक्टर आरके सकलानी भी उपस्थित हुए। बैठक में ग्रामीणों ने आश्रम संचालक सहित अन्य लोगों पर दबंगई करने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। बताया कि नेशनल हाईवे पर एक खोखे के मालिक को आश्रम में रहने वाले कुछ लोगों ने लाठी-डंडों से किस बुरी कदर से पीटा है कि वह एम्स में भर्ती है। जिस पर चर्चा होने के बाद इंस्पेक्टर ने आश्वासन दिया कि मामले में जांच की जाएगी। जिसके बाद अग्रिम कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बैठक में  राजेन्द्र भण्डारी,मोहन बिष्ट ,लेखराज भण्डारी ,विरेंदर गुसाई ,रवीद्र भण्डारी ,वेद प्रकास मैठानी ,त्रिलोक भण्डारी ,मनीष चौहान ,शिवानी भण्डारी ,प्रतिभा रावत ,सरोजनी कोठारी ,पूनम धमान्दा  आदि मौजूद थे ।



क्या कहते है ग्राम प्रधान :


ग्राम प्रधान सुरेश उनियाल ने बताया कि क्षेत्र में आश्रम संचालक लगातार अशांति का माहौल बना रहे हैं इनके खिलाफ पुलिस को एक्शन लेना चाहिए जिससे कि भविष्य में भी क्षेत्र में शांति का माहौल बना रहे।

क्या कहते है इंस्पेक्टर :-

इंस्पेक्टर आरके सकलानी ने बताया कि मामला संज्ञान में है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। जांच के बाद पुलिस अग्रिम कार्रवाई करेगी। बताया क्षेत्र में अशांति फैलाने वालों को पुलिस बख्शने के मूड में नहीं है। यदि इस प्रकार की घटना सामने आती है तो पुलिस तत्काल आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर उन्हें गिरफ्तार कर लेगी।

क्या कहते है आश्रम संचालक :-


क्रियायोग आश्रम के सत्यमित्रानंद का कहना है कि उनके ऊपर लगाए जा रहे आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने किसी के साथ मारपीट नहीं की है। बल्कि स्थानीय लोगों ने उनके आश्रम के शीशे तोड़ दिए हैं। गेट तक तोड़ने की कोशिश की गई है और साधु महात्माओं के साथ बुरा व्यवहार कर मारपीट की गई है। इस मामले में वह पुलिस से निष्पक्ष कार्रवाई की मांग करते हैं। जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सके।

Share To:

Post A Comment: