ऋषिकेश /समाचार भास्कर - जिला टिहरी गढ़वाल के तहसील नरेंद्रनगर के अंतर्गत ग्राम तपोवन में 32 वर्ष पहले भूमि प्रबंधन समिति द्वारा गरीब किस्म के लोगों तथा नसबंदी कराए कुछ लोगों को भूमि आवंटन कराई गई थी । जिसमें सर्त व नियम थे की मकान बनाने ,बागवानी ,पशुपालन के लिए ही भूमि का प्रयोग किया जाएगा परंतु आज के दौर में भूमि प्रबंधन समिति के देखरेख ना करने से उन जमीनों  के स्वामियों ने और अधिक भूमि कब्जा ली तथा उन जमीनों पर अब कमर्शियल प्रयोग में लाकर बड़े-बड़े होटल ,कैफे ,मसाज सेंटर आदि चला रहे हैं जो नियम के विरुद्ध है ।

बताते चलें कि 30 , 40 वर्ष पूर्व मैं भूमि प्रबंधन समिति हुआ "जो आज भी है पर बिलुप्त के कगार पर" करती थी जो गरीब असहाय विधवा विकलांग तथा अन्य कारणों से नसबंदी कराए युवकों को नीलामी की प्रक्रिया अपनाकर उन लोगों को मात्र ₹ 40/50 में ही 45 गज भूमि आवंटन कर दी गयी थी । पर इस समिति के द्वारा दिए गए भूमि पर सरकार की कोई  संघ सूची वह मोहर नहीं होती थी । जानकार बताते हैं कि कृषि भूमि व राजस्व भूमि को लीज पर देने व आवंटन करने की पावर सिर्फ कलेक्टर में होती है नाकी किसी समिति में जानकार ने बताया कि इस प्रकार की भूमि को आज के समय में कलेक्टर के द्वारा नियम 198/5 के अंतरगत निरस्त भी किया जा सकता है जानकार ने यह भी बताया कि भूमि आवास बनाकर रहने के लिए दिया गया था परंतु जिन लोगों ने होटल गेस्ट हाउस कैफे मसाज सेंटर बनाकर चला रहे हैं जो नियम के विरुद्ध है उन लोगों की भूमि को निरस्त ही सरकार की समझदारी होगी ।
Share To:

Post A Comment: